education

From career to life, small things have a big impact. Life Skills For Career Growth | Know Here Importance Of Life Skills In Our Daily Lives – Rojgar Samachar

  • हिंदी समाचार
  • डीबी मूल
  • करियर ग्रोथ के लिए लाइफ स्किल्स | अपने दैनिक जीवन में जीवन कौशल के महत्व को यहां जानें

एक अच्छी सलाह

छह अंतरराष्ट्रीय बेस्टसेलर के लेखक पावर के 48 कानून, प्रलोभन की कला, युद्ध की 33 रणनीतियां, पांचवां कानून, महारत और मानव प्रकृति के कानून रॉबर्ट ग्रीन इसपर विश्वास करें-

‘भविष्य उनका है जो अधिक कौशल सीखते हैं और उन्हें रचनात्मक तरीकों से जोड़ते हैं।’

तो क्या आप रोज़मर्रा के कौशल विकसित करके अपने करियर और शिक्षा को आगे बढ़ा सकते हैं?

हाँ!

1)सुबह अपना बिस्तर खुद बनाएं: यदि आप दुनिया को बदलना चाहते हैं, तो अपना दिन अपना बिस्तर बनाकर शुरू करें, संयुक्त राज्य सेना के सील कमांडो प्रशिक्षण के प्रमुख एडमिरल मैकरावेन कहते हैं।

यहां बिस्तर बनाना यानी आप जिस चादर और गद्दे पर सोते हैं उसे ठीक करें, उन चादरों, चादरों आदि को अपने पास रखें। यह एक छोटा सा काम है, लेकिन यह दिन की सकारात्मक शुरुआत के लिए प्रेरित करता है। और सबसे अच्छी बात यह है कि जब आप दिन के अंत में थके हुए वापस आते हैं, तो आप अपना बिस्तर तैयार पाते हैं और आपके चेहरे पर मुस्कान होती है!

2) अपने संचार कौशल पर काम करें


कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क्या काम करते हैं, आप संचार के बिना नहीं रह सकते। 21वीं सदी में संचार का मतलब सिर्फ बोलना नहीं है, बल्कि सुनना, समझना, लिखना, पढ़ना, बॉडी लैंग्वेज या किसी अन्य माध्यम जैसे कि दृश्य, कला (जैसे ड्राइंग, संगीत) के माध्यम से व्यक्त करना है। व्यावसायिक दुनिया में, संचार कौशल एक टीम को प्रेरित करने, निर्देशित करने, संचार करने, समन्वय करने, अपने ब्रांड को व्यक्त करने के लिए उपयोगी होते हैं। बिना किसी भ्रम के हर दिन ठीक से संवाद करने की आदत डालें और इसे हल्के में न लें।

3) स्व प्रबंधन: व्यवस्थित रहें – इसमें अनावश्यक वस्तुओं को हटाना, आवश्यक वस्तुओं की मरम्मत करना, चीजों को उनके उचित स्थान पर रखना आदि शामिल हैं। जापानी तकनीक ‘कैज़ेन’ यानी जीवन में निरंतर सुधार का पालन करने से लाभ होगा। नियमित ध्यान और व्यायाम आपको फिट और तनाव मुक्त रख सकते हैं। पारेतो सिद्धांत का पालन करें जिसे समय प्रबंधन के लिए 80-20 नियम के रूप में भी जाना जाता है। इस नियम के अनुसार जीवन के अधिकांश क्षेत्रों में 80% परिणाम 20% प्रयास से आते हैं, और हमें पहले उस 20% पर ध्यान देना चाहिए।

4) अनुकूलता: नए ज्ञान और कौशल से दूर न भागें, बल्कि उन्हें तलाशते रहें। आप रोजाना अच्छे अखबार और पत्रिकाएं पढ़ते हैं। अच्छी प्रेरक फिल्में, वृत्तचित्र देखें और उनका अच्छा उपयोग करें। नई ट्रेंडिंग तकनीकों से अवगत रहें और आवश्यक सॉफ़्टवेयर को जानें।

5) तार्किक समस्या हल करना: अलग और तार्किक तरीके से सोचें – समस्याओं को अलग तरीके से हल करने का प्रयास करें। अलग तरह से सोचें लेकिन तार्किक रूप से। देखें कि कैसे मौजूदा प्रक्रियाओं और उत्पादों को बेहतर या कम प्रयास से बनाया जा सकता है।

6) इमोशनल इंटेलिजेंस (इमोशनल इंटेलिजेंस): ‘सहानुभूति’ का अर्थ है दूसरों के प्रति दया करना अपनी दैनिक आदत बनाना। भावनात्मक बुद्धिमत्ता का वर्णन कई तरह से किया गया है, लेकिन मूल रूप से यह अपनी भावनाओं और दूसरों की भावनाओं को पहचानने की क्षमता है। एक प्रभारी व्यक्ति एक मजबूत ईक्यू के साथ सहकर्मियों की भावनाओं को प्रबंधित और नियंत्रित करना जानता है।

7) ‘अतिसूक्ष्मवाद’ का अभ्यास करें

,अतिसूक्ष्मवाद‘ इसका मतलब जीवन की गुणवत्ता को कम करना नहीं है। इक्कीसवीं सदी में ‘सादा जीवन उच्च विचार’ एक अनुवाद है। इसका मतलब है कि उन चीजों को अपने जीवन से काट देना ही तनाव पैदा करता है। तो आपके पास 25 कमीजें हैं और आप केवल 7 का उपयोग करते हैं, इसलिए 18 कमीजें आपके जीवन पर एक बेकार बोझ हैं। न्यूनतावाद का अर्थ है जीवन से ऐसे बोझ को कम करना। इसका रोजाना अभ्यास करके आप अपने जीवन को बहुत सार्थक बना सकते हैं।

हर शुक्रवार हम आपके लिए ऐसे ही सरल और शक्तिशाली कौशल उन्मुख विषय लाते हैं। वादा करो तुम करोगे!

देखेंगे!

इस कॉलम पर टिप्पणी करने के लिए यहां क्लिक करें।

और भी खबरें हैं…

Back to top button

Adblock Detected

Ad Blocker Detect please deactivate ad blocker